आत्म विश्वास सफलता की सबसे बड़ी पूँजी है। विश्वास के बिना मनुष्य कुछ नहीं कर सकता; इसके साथ सब कुछ संभव है।

आत्मविश्वास एक ऐसी चीज है जो आपको आत्म-विश्वास की भावना प्रदान करता है और परिणामस्वरूप जिससे आपका मन मजबूत और खुश रहता है। आत्मविश्वास के साथ, कोई भी जीवन में कुछ भी हासिल कर सकता है, यह आपकी शक्ति और उन चीजों को करने की क्षमता को बढ़ाता है जो आपको भयभीत कर सकते हैं और आपको निराश कर सकते हैं।आत्म विश्वास का अर्थ होता है स्वयं पर विश्वास, किसी भी कार्य को करने के लिए व्यक्ति का स्वयं पर विश्वास होना अति आवश्यक है क्योंकि इस विश्वास के सहारे ही वह उस कार्य में सफलता प्राप्त कर सकता है।आत्म विश्वास सफलता की सबसे बड़ी पूँजी है। आज हम देखते हैं कि दुनिया में बहुत सारे ऐसे लोग है जिन्होंने बहुत सारी नाकामयाबियों के बाद कामयाबी हासिल की है वह कैसे?

दोस्तों अगर उन्होंने ऐसा किया है तो सिर्फ और सिर्फ अपने आत्मविश्वास के बल पर इसलिए हम सभी को भी आत्मविश्वासी बनना चाहिए और दुनिया में कुछ बड़ा करना चाहिए। आत्मविश्वास सफलता की कुंजी है, या हम सफलता के लिए पहला कदम कह सकते हैं।

विश्वास अदृश्य है लेकिन महसूस किया जाता है, विश्वास ताकत है जब हमें लगता है कि हमारे पास कुछ नहीं है, विश्वास आशा है जब सब खो गया लगता है।

मेरा,भगवान और बांस पर आस्था ने – मैंने एक दिन अपनी जिंदगी में सबकुछ छोड़ने का फैसला किया I मैंने पद छोड़ने का फैसला किया, मैंने अपनी नौकरी, मेरा रिश्ता, मेरा अध्यात्म सब छोड़ दिया ।

मैं अपनी जिंदगी ख़त्म करना चाहता था। मैं जंगल में चला गया भगवान के साथ एक आखिरी बार बात करने के लिए ।

मैंने कहा, “भगवान” “क्या आप मुझे एक अच्छा कारण दे सकते हैं सब ख़त्म नहीं करने का?”

उनके जवाब ने मुझे हैरान कर दिया । उन्होंने कहा, “चारों ओर देखो” । “क्या आप घास और बांस देखते हैं?”

“हां”, मैंने जवाब दिया । “जब मैंने घास और बांस के बीज लगाए तो मैंने उनका बहुत अच्छा ख्याल रखा ।

मैंने उन्हें रोशनी दी। मैंने उन्हें पानी दिया। घास जल्दी से पृथ्वी पर बढ़ी।

इसके शानदार हरे रंग ने फर्श को कवर किया। फिर भी बांस के बीज से कुछ नहीं आया।

लेकिन मैंने बांस पर उम्मीद नहीं छोड़ा। दूसरे वर्ष में घास अधिक जीवंत और बहुतायत से बढ़ी ।

और फिर बांस के बीज से कुछ नहीं आया । लेकिन मैंने बांस पर विश्वास नहीं छोड़ा।

तीन साल में अभी भी बांस के बीज से कुछ नहीं निकला ।

लेकिन मैंने अपना विश्वास नहीं छोड़ा । और फिर चौथे साल में यही हुआ।

फिर पांचवें वर्ष में, पृथ्वी से एक छोटा सा अंकुर निकला।

घास की तुलना में, यह अस्तित्व छोटा और तुच्छ था ।

लेकिन इसके ठीक छह महीने बाद बांस बढ़कर 100 फीट से ज्यादा लंबा हो गया ।

इसने पांच साल बढ़ती जड़ों में बिताया था ।

उन जड़ों ने इसे मजबूत बनाया और इसे जीवित रहने के लिए जो चाहिए वो दिया ।

मैं अपनी ऐसी किसी भी कृतियों को एक ऐसी चुनौती नहीं दूंगा जिन्हे वो संभाल नहीं सकें ।

“क्या आप जानते हैं, मेरे बच्चे, कि इस सब समय जो तुम संघर्ष कर रहे है, तुम वास्तव में अपनी जड़ें बढ़ा रहे हो ?

मैं बांस पर कभी विश्वास नहीं छोड़ा । मैं तुम पर कभी विश्वास नहीं छोड़ूंगा ।

“अपने आप की तुलना कभी दूसरों से मत करो” उन्होंने कहा, “बांस का घास से एक अलग उद्देश्य था ।

फिर भी वे दोनों जंगल को सुंदर बनाते हैं। आपका समय आ जाएगा “, भगवान ने मुझसे कहा।

“तुम भी उच्च वृद्धि करोगे” तुम्हारा समय आएगा और तुम्हारे जीवन में परिवर्तन होगा।

“मुझे कितना ऊंचा उठना चाहिए?” मैंने पूछा।

“बांस कितना ऊंचा होगा?” उसने बदले में पूछा।

“उतना ऊँचा जितना वो हो सकता है?” मैंने सवाल किया।

“हां.”

उसने कहा, “जितना हो सके मुझे ऊंची उठने की शक्ति दे दो। ये शक्ति तुम्हारे अंदर है इसलिए तुम्हें खुद पर भरोसा करना चाहिए। वह बहुत आवश्यक है।

मैं जंगल से वापस आ गया,आत्मानुभूति हुई कि भगवान मुझ पर कभी भरोसा करना नहीं छोड़ेंगे।

और वह तुम पर भी कभी भरोसा नहीं छोड़ेगा, वह कभी हार नहीं मानेगा। इसलिए तुम भी हार मत मानो I

अपने जीवन में कभी भी एक दिन पछतावा न करें। क्योंकि यह एक दिन आपका सम्पूर्ण जीवन नहीं हो सकता है I आपके द्वारा हर दिन किया हुआ प्रयास और आने वाले नए दिन पर किया गया विश्वास आपकी जिंदगी बदल देगा I

अच्छे दिन तुम्हें खुशी देते हैं। बुरे दिन आपको अनुभव देते हैं; दोनों जीवन के लिए आवश्यक हैं। अच्छे दिन तुम्हें तुम्हारे किए हुए कार्य की सफलता की याद दिलाता है I और बुरे दिन आपको आपके अंदर विद्यमान शक्ति का अनुभव कराता है I आपके विश्वास और दृढ़ संकल्प की परीक्षा लेता है I बुरे दिन आपको आपके जीवन में आपकी क्षमता का बेहतरीन प्रदर्शन करने के लिए अवसर देता है I

मेरा मानना ​​है कि यदि आप अपना विश्वास रखते हैं, तो आप सही दृष्टिकोण रखते हैं, यदि आप आभारी हैं, तो आप देखेंगे कि भगवान नए दरवाजे खोलते हैं।

आपको अपनी पूरी क्षमता का आकलन कर उस क्षमता का उपयोग करने का सबसे सही समय भी यही होता है I क्योंकि ऐसे समय में आप उस आकाश में उड़ने वाले पक्षी के राजा बाज की तरह होते हैं जिसका ध्यान सिर्फ अपने शिकार पर केंद्रित होता है। अपने शिकार पर उसका ध्यान इतना केंद्रित होता है कि जब वह अपने शिकार को पकड़ने के लिए झपटता है तो शिकार चाहकर भी उसकी पकड़ से मुक्त नहीं हो सकता है। चिंता करना अभिमानी है क्योंकि परमेश्वर जानता है कि वह क्या कर रहा है।

आजकल Olympics 2021 चल रहा है I इसमें बहुत से खिलाड़ियों ने देश विदेश से हिस्सा लिया होगा। उन्होंने काफी समय से इसके लिए मेहनत भी की होगी. लेकिन फिर भी सिर्फ कुछ ही खिलाड़ी ओलंपिक खेल 2021 में इतिहास लिख पाएंगे। जिन्हें इस Olympics 2021 के बाद नाम, सम्मान और उनके किए गए इतने सालों की मेहनत का इनाम मिलेगा। इतने खिलाड़ियों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी को ही वो सम्मान मिलेगा, जिसके लिए उन्होंने इतनी मेहनत की होगी।

विचार कीजिए, क्या इतने सारे और खिलाड़ी जिन्होंने इस ओलंपिक खेल 2021 में हिस्सा लिया क्या वो बेहतर नहीं थे। तो सुनिए वो भी अपने देश में कई लाखों की संख्या में से चुने हुए बेहतर खिलाड़ी हैं। कितने ही लोगों ने राज्य स्तर पर प्रदर्शन किया होगा फिर उनमें से बेहतर चुना गया होगा। उसके बाद देश स्तर पर बेहतर प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी को चुना गया होगा। इस ऑलंपिक खेल से पहले उन्होंने कई बार बेहतरीन प्रदर्शन किया होगा। और कुछ दिन या कुछ महीने नहीं कई दिन और कई साल की मेहनत के बाद उन खिलाड़ियों को इस ऑलंपिक में हिस्सा लेने के लिए चुना गया होगा। और उसके बावजूद भी अगर वो सफल नहीं हुए तो आप कल्पना कीजिए कि जो सफल हुए होंगे उन्होंने कितनी मेहनत की होगी। किस हद तक उन्होंने प्रयास किया होगा। कितनी जिद से इस मुकाम को हासिल करने के लिए उस खिलाड़ी ने इस खेल को खेला होगा। उसने अपने जीवन के सारे सुख त्यागे होंगें।अपनी जिंदगी में ओलंपिक अलावा और कुछ सोचना बंद कर दिया होगा। और तब जाकर उन्हें ये सम्मान प्राप्त होगा जिसकी उन्होंने कभी कल्पना की होगी।इतिहास में उनका नाम लिखा जाएगा। लोग वर्षों तक उन्हें याद रखेंगे। बहुत से लोगों के लिए वो प्रेरणा स्रोत होंगे। कई युवा खिलाड़ी उनसे प्रेरित होकर आने वाले भविष्य में इतिहास लिखेंगे।समाज में ही नहीं, राज्य और देश स्तर पर इन्हें सम्मान मिलेगा। इसलिये आप भी खुद पर भरोसा रखें। भगवान का विश्वास आप पर हमेशा है।

भरोसा रखना। जीवन में सबसे आश्चर्यजनक चीजें, ठीक उसी समय घटित होती हैं, जब आप आशा छोड़ने वाले होते हैं।

विश्वास रखना पानी के प्रति अपने आप पर भरोसा करना है। जब आप तैरते हैं तो आप पानी को नहीं पकड़ते हैं, क्योंकि अगर आप करते हैं तो आप डूबेंगे और डूबेंगे। इसके बजाय आप आराम करें, और तैरें। हर कोई गिर जाता है, गलतियाँ करता है, और जीवन में कठिन बाधाओं का सामना करता है। महत्वपूर्ण यह है कि क्या हम न केवल खुशी के समय में बल्कि कठिन समय में भी अपना विश्वास बनाए रखते हैं। विश्वास रखना शुरू कर दो। कल्पना करते रहें कि यह होगा, और यह होगा।

आपने सुना होगा कि तूफान से पहले शांति होती है। लेकिन आप अगर इसको समझ सकें तो शांति तूफान से स्वतंत्रता नहीं है, लेकिन तूफान के अंदर विद्धमान है शांति।/p>

IMRudra_MotivationalBlog2_Footer Strip

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *