IMRudra_MotivationalBlog2_Neeraj Chopra Gold Medallist

आज मैं आपको ऐसे ही एक भारत के बेटे की कहानी बता रहा हूँ I एक छोटे से गांव का एक मोटा शरारती बच्चा जिसे गांव में मधुमक्खियों के छत्ते से छेड़छाड़ करने के साथ भैसों की पूंछ खींचने जैसी शरारत करने में मज़ा आता था उसने इतिहास रच दिया I अपना वजन कम करने के लिए शुरू किए गए एक खेल से 2018 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सूबेदार नीरज चोपड़ा, भिएसएम ट्रैक और फील्ड एथलीट प्रतिस्पर्धा में भाला फेंकने वाले खिलाड़ी हैं। नीरज ने 87.58 मीटर भाला फेंककर टोक्यो ओलंपिक 2020 में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचा है I अंजू बॉबी जॉर्ज के बाद किसी विश्व चैम्पियनशिप स्तर पर एथलेटिक्स में स्वर्ण पदक को जीतने वाले वह दूसरे भारतीय हैं, कड़ी मेहनत और लगन से किया गया कार्य सफलता की बुलंदियों तक ले जाता है I

History Creator Gold Medallist Neeraj Chopra – The Life Journey

टोक्यो ओलंपिक में भारतीय जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने गोल्ड पर निशाना लगाकर इतिहास रच दिया I  जैवलिन थ्रो फाइनल में नीरज ने 87.58 की सर्वश्रेष्ठ दूरी तय करते हुए गोल्ड पर कब्जा किया I क्वालिफिकेशन राउंड में भी नीरज अपने ग्रुप में टॉप पर रहे थे I

एक समान्य किसान परिवार से आते हैं नीरज चोपड़ा I  नीरज चोपड़ा हरियाणा के पानीपत जिले के खांद्रा गांव से आते हैं I उनका जन्म 24 दिसंबर 1997 को हुआ था I  उनके पिता सतीश कुमार किसान हैं I खेतीबाड़ी से घर परिवार का खर्च चलता था I नीरज ने स्कूली शिक्षा चंडीगढ़ से पूरी की हैI

neeraj-chopra-journey

इन्हें पढ़ाई के साथ पिता और चाचा के साथ खेत पर जाकर उनके साथ काम करना पसंद थाI नीरज चोपड़ा के मौजूदा कोच ओऊ हॉन हैं I  Neeraj Chopra ने इस इतिहास को रचने के लिए अथक परिश्रम किया I नीरज चोपड़ा हफ्ते में छह दिन छह घंटे ट्रेनिंग करते हैंI  छह घंटे लगातार पसीना बहा कर उन्होंने अपना वर्तमान बदल दिया I ऐसा इतिहास लिखा जो वर्षो तक याद रखा जाएगा I

गोल्ड को टारगेट कर बनाया इतिहास। मेहनत करने वालों ने कभी हार नहीं मानी।

उन्होंने 2016 में पोलैंड में हुए IAAF वर्ल्ड U-20 चैम्पियनशिप में 86.48 मीटर दूर भाला फेंककर गोल्ड जीता था I  जिसके बाद उन्हें आर्मी में जूनियर कमिशन्ड ऑफिसर के तौर पर नौकरी मिल गई I जिससे उनके घर की स्थिति बदल गई I और आज तो उन्होंने सफ़लता का वो झंडा गाड़ दिया जो उनके एक नई जीवन की शुरुआत होगी I 

नीरज का जैवलिन थ्रोअर बनने का सफर भी बहुत ही दिलचस्प है I दरअसल नीरज (Neeraj Chopra) को पहले जैवलिन थ्रो का शौक नहीं था I  वो बचपन में काफी मोटे हुआ करते थे और 11 साल की उम्र में घरवालों ने मोटापे को कम करने के लिए उन्हें खेलने के लिए कहा I  पानीपत के शिवाजी स्टेडियम में नीरज खेलने के लिए जाने लगे I वहां उन्होंने स्टेडियम में जेवलिन थ्रो की प्रैक्टिस करते हुए खिलाड़ियों को देखा I  जिसके बाद उनका मन इस खेल में आ गया I  यहीं से नीरज चोपड़ा के जीवन में जेवलिन थ्रो की एंट्री हुई I

neeraj-chopra Childhood Pic

आपकी मेहनत ही आपको आपके लक्ष्य तक ले जाएगी।

चोपड़ा की पहली यादगार जीत 2012 में लखनऊ में नेशनल जूनियर चैंपियनशिप में आई थीI उस टूर्नामेंट में चोपड़ा ने अंडर-16 स्पर्धा में 68.46 मीटर भाला फेंककर राष्ट्रीय उम्र-समूह रिकॉर्ड बनाया था और स्वर्ण पदक जीता I 2013 नेशनल यूथ चैंपियनशिप में नीरज ने एक बार फिर शानदार प्रदर्शन किया I उन्होंने दूसरा स्थान हासिल करते हुए उस वर्ष यूक्रेन में होने वाली आईएएएफ वर्ल्ड यूथ चैंपियनशिप में जगह पक्की की और फिर गोल्ड जीतने तक की जबर्दस्त मेहनत रंग लाई I

IMRudra_MotivationalBlog2_Neeraj Chopra Gold Medallist-Tokya
Neeraj Chopra : Gold Medallist (7th/Aug/2021)

अपनी उम्मीद मत खोइए, खुद के साथ धैर्य रखिए।चुनौतियों का सामना बहादुरी से करना चाहिए।

ऑल-इंडिया इंटर-यूनिवर्सिटी चैंपियनशिप में नीरज ने साल 2015 में 81.04 भाला फेंककर इस एज ग्रुप का रिकॉर्ड अपने नाम किया I  और फिर वह रुके नहीं, हर दिन की कड़ी मेहनत से नीरज चोपड़ा साल 2016 में उस वक्त हाईलाइट हुए थे, जब उन्होंने जूनियर विश्व चैंपियनशिप में 86.48 मीटर भाला फेंककर विश्व रिकॉर्ड बनाते हुए स्वर्ण पदक पर कब्जा किया था I  2018 गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ खेलों में नीरज ने 86.47 मीटर भाला फेंका और गोल्ड मेडल अपने नाम किया.इसके अलावा एशियन गेम्स 2018 में नीरज ने अपना बेस्ट प्रदर्शन करते हुए 88.06 मीटर भाला फेंका और जेवलिन थ्रो में पहला गोल्ड भारत को दिलाया I यह कामयाबी उनके कठिन परिश्रम का फल था I 

आपके सपने आपका रास्ता तय करते हैं इसलिए बड़े से बड़ा सपना देखो

टोक्यो ओलंपिक में जैवलिन थ्रो यानी भाला फेंक के क्वालिफिकेशन राउंड में भी नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) पहले नंबर पर रहे थे I उन्हें जैवलिन थ्रो में गोल्ड का दावेदार जरूर माना जा रहा था I  जिस तरह इस खिलाड़ी ने प्रदर्शन किया, आज पूरा देश उनका मुरीद हो गया है I  आज हमारे देश का हर व्यक्ति उन्हें जानता है,  हर युवा पीढ़ी के लिए एक प्रेरणा हैं I 

IMRudra_MotivationalBlog2_Neeraj Chopra Gold Medallist-Tokya Recent Image

टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रचने वाले नीरज जैवलिन थ्रो के फाइनल में शुरुआत से ही सबसे आगे रहे I उन्होंने अपनी पहली ही कोशिश में 87.03 मीटर की दूरी तय की हैI वहीं दूसरी बार में उन्होंने 87.58 की दूरी तय करी I इसी के साथ उन्होंने अपने क्वालिफिकेशन रिकॉर्ड से भी ज्यादा दूर भाला फेंका है I  जैवलिन थ्रो में ये भारत का अब तक का सबसे पहला gold मेडल है I इतना ही नहीं एथलेटिक्स में भी ये भारत का पहला ही गोल्ड मेडल है I

हमारे देश के माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी ने फोन पर नीरज से बात की और उन्हें ढेर सारी शुभकामनाएं दी I उन्होंने ट्वीट पर भी लिखा कि गोल्ड जीतने के बाद मैंने नीरज से बात की और उन्हें इस उपलब्धि के लिए बधाई दी I  उन्होंने टोक्यो 2020 के दौरान कड़ी मेहनत और तप किया जिसका परिणाम उन्हें प्राप्त हुआ I वो बेहतरीन खेल प्रतिभा और खिलाड़ी भावना का परिचय देते हैं I  भविष्य के लिए उन्हें ढेरों शुभकामनाएं I

IMRudra_MotivationalBlog2_Neeraj Chopra Gold Medallist- Modi congratulate
History has been scripted: PM Modi, others congratulate Neeraj Chopra for Olympics gold

आपका भविष्य आपके आज पर निर्भर करता है इसलिए अपने आज को बेहतरीन तरह से जियो

अतीत जीवन में सिर्फ तकलीफ देता है I क्योंकि अगर आपका अतीत आपके वर्तमान स्थिति से बेहतर था तो वह आपको हमेशा कमजोर बनाएगा I और अगर आपका अतीत वर्तमान से खराब था तो वह जब याद आएगा आपको परेशान करेगा I भविष्य के बारे में हर समय कल्पना करना भी आपको कहीं ना कहीं आपके वर्तमान से आपका ध्यान भटकाता है I

किसी भी अवस्था में जब आप अपने भविष्य की कल्पना करते हैं तो आप अपने वर्तमान से भटकने लगते हैंI आप को अपने सपने को साकार करने के लिए भी वर्तमान स्थिति के अनुसार ही मेहनत करनी पड़ेगी I और जीवन के वर्तमान में की गई कड़ी मेहनत आपको आसमान के बुलंदी पर ले जाती है I यही जीवन का वास्तविक सत्य है I

To know more contact us at helpdesk@imrudra.com

Follow us on:

IMRudra_MotivationalBlog2_Footer Strip